क्रिप्टोकरेन्सी क्या है?

हम सभी ने क्रिप्टोकरेन्सी के बारे सुना है, और मन में ये सवाल जरूर आता है क्रिप्टोकरेन्सी क्या है? आप अगर क्रिप्टोकरेन्सी के बारे में थोड़ा बहुत जानते है तो भी और अगर बिलकुल भी कुछ नहीं जानते तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े। इसमें हमने क्रिप्टोकरेन्सी के सभी पहलुओं पे बिस्तार से बात की है, तो आइये जानते है क्रिप्टोकरेन्सी क्या है ?

क्रिप्टोकरेन्सी क्या है ?

क्रिप्टोकरेन्सी एक एक कंप्यूटर अल्गोरिथम पे आधारित डिजिटल करेंसी है,क्रिप्टोकरेन्सी के डिजिटल करेंसी होने के वजह से न तो आप इसे छू सकते है, न ही इनके ऊपर किसी भी गवर्मेन्ट या किसी तरह के बैंक या संस्थान का कोई कण्ट्रोल नहीं होता।

क्रिप्टोकरेन्सी पियर टू पियर इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम पे काम करता है। जिसे ही ब्लॉकचेन कहाँ जाता है जो न सिर्फ इसके लेनदेन में कारगर साबित होता है साथ ही इससे क्रिप्टोकरेन्सी जैसे बिटकॉइन इत्यादि को ट्रैक किया जाता है।आज दुनिया में लगभग 4000 से भी ज्यादा क्रिप्टोकरेन्सी मौजुद है।

इन करेंसी का लेनदेन फर्स्ट पर्सन यानि की जिससे आप ट्रेड कर रहे है और सेकण्ड पर्सन यानि की आप सिर्फ इन दोनों के बीच में होता है जिससे आपको मुनाफा ज्यादा होता है लेकिन ये कुछ हद तक इन्हे असुरक्षित भी बनाती है। हालांकि क्रिप्टोकरेन्सी की अपनी एक एंक्रिप्शन key युक्त सुरक्षा होती है। जैसे बिटकॉइन अपने लेनदेन को सुरक्षित करने के लिए डिजिटल हस्ताक्षर का उपयोग किया जाता है, जिसमे दोनों पार्टियों को एंक्रिप्शन key दिया जाता है जिससे इनका लेनदेन सुरक्षित बन जाता है। जिसे लेजर की देखरेख में किया जाया है। अब आपके मन में सवाल आया होगा की लेजर क्या है? और क्या काम करता है? तो जानते है

read also: India ke 6 best laptop under 50000 in hindi

लेजर क्या है? और क्या काम करता है?

जब करेंसी अपने आप में यूनिक है, तो इसका बहीखाता भी यूनिक होना चाहिए जिसे लेज़र कहा जाता है। लेज़र का काम मुख्य तौर पर डेटाबेस में एंटेरी की लिस्ट बनाना और सभी तरह के लेनदेन को सार्वजनिक और पारदर्शी बनाये रखना है। यह एक स्वचालित और स्व-शासित है इसका मतलब इसमें इसमें किसी तरह के बहरी हस्तछेप का कोई सवाल ही नहीं है। लेकिन इसकी भी अपनी कुछ कमिया है जो क्रिप्टोकरेन्सी को गलत तरीके से यूज़ करने से नहीं रोक पाति है।

read also: बेस्ट लैपटॉप अंडर 40000 रुपए ( best laptop under 40000 in hindi )

CryptoCurrency के फायदे

आइये अब जानते है क्रिप्टोकरेन्सी के फायदे को जो इसे खास और भौतिक करेंसी से अलग बनाती है।

  • जैसा की आप अब जानते है की क्रिप्टोकरेन्सी आज के समय में लेन देन के भौतिक और पुराने तरीके को काफी हद्द तक बदल रहा है। आज हम क्रिप्टोकरेन्सी के माध्यम से बहुत सी चीजे ऑनलाइन खरीद सकते है। ये क्रिप्टोकरेन्सी की लोकप्रियता ही है जिसके कारन कई कम्पनी आज क्रिप्टोकरेन्सी क एक्सेप्ट करती है।
  • क्रिप्टोकरेन्सी की एक और खास बात है इसकी ट्रांसपेरेंसी जिसके बारे में आपने ऊपर पढ़ा है की कैसे लेज़र की मदद से इसके रिकॉर्ड को रखा जाता है। जिससे इसका लेन – देन काफी पारदर्शी हो जाती है।

read also: बेस्ट लैपटॉप अंडर 30000 रुपए (best laptop under 30000 in hindi)

CryptoCurrency के नुकसान

  • क्रिप्टोकरेन्सी जैसे विकल्पों को बड़े पैमाने पर अपनाने के मामले में शायद सबसे चुनौतीपूर्ण बाधा यह है कि इसे समझना मुश्किल हो सकता है, खासकर यदि आप तकनीक-प्रेमी नहीं हैं। क्योकि यह एक बिना गवर्मेन्ट के अधिनियम का वित्तीय प्रणाली है, ब्लॉकचेन के माध्यम से संग्रहीत किया जाता है।
  • ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन इस समय उनका उपयोग करने वाले अधिकांश लोग उन्हें केवल एक निवेश के रूप में उपयोग कर रहे हैं। जो काफी जोखिम और उतार चढ़ाव से भरा हुआ है। कभी तो ये काफी ज्यादा प्रॉफिट और कभी काफी नुकसान देता है।
  • सरकार के अधियम से दूर होने के वजह से आजकल इसका उपयोग गैर क़ानूनी गतिविधियों में ज्यादा होता है।

Leave a comment